top of page

Classification and characteristics of bricks as per Indian Standard



1: Introduction - परिचय


Bricks, or "ईंट" as we call them in Hindi, are the fundamental building blocks of our construction industry. These simple yet vital components have been used for centuries to build homes, monuments, and infrastructure. In this blog, we will explore the classification and characteristics of bricks as per the Indian Standard.


ईंटें, जिन्हें हम हिंदी में "ईंट" कहते हैं, हमारे निर्माण उद्योग के मौलिक निर्माण ब्लॉक हैं। ये सामान्य लेकिन महत्वपूर्ण घटक हैं जो सदियों से घर, स्मारक, और बुनाई के लिए प्रयुक्त हो रहे हैं। इस ब्लॉग में, हम भारतीय मानक के अनुसार ईंटों का वर्गीकरण और विशेषताओं की खोज करेंगे।


2: Classification Based on Manufacturing Method - निर्माण प्रक्रिया के आधार पर वर्गीकरण


Bricks can be classified into different categories based on their manufacturing method:


1. Handmade Bricks (हस्तनिर्मित ईंटें): These bricks are made manually and are known for their traditional and rustic appearance.


2. Machine-Made Bricks (मशीन से बनी ईंटें): These bricks are manufactured using machines, ensuring uniformity in size and shape.


3. Extruded Bricks (निकाली गई ईंटें): These are made by extruding clay through a die, resulting in a specific shape.


4. Burnt Bricks (सुखाई गई ईंटें): These bricks are fired in kilns at high temperatures, making them strong and durable.


ईंटों को उनकी निर्माण प्रक्रिया के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है:


1. हस्तनिर्मित ईंटें: ये ईंटें मैन्युअल रूप से बनाई जाती हैं और उनकी पारंपरिक और गाँवी दिखावट के लिए प्रसिद्ध हैं।


2. मशीन से बनी ईंटें: इन ईंटों को मशीनों का उपयोग करके निर्मित किया जाता है, जिससे आकार और आकृति में समानता होती है।


3. निकाली गई ईंटें: ये ढेलकर जाने वाले ईंट होती हैं, जो विशिष्ट आकार में निकलती हैं।


4. सुखाई गई ईंटें: इन ईंटों को उच्च तापमान पर किलों में बढ़ाया जाता है, जिससे वे मजबूत और टिकाऊ होती हैं।


3: Classification Based on Use - उपयोग के आधार पर वर्गीकरण


Bricks can also be classified based on their specific use in construction:


1. Common Bricks (सामान्य ईंटें): These are used for general construction purposes and have no specific features.


2. Facing Bricks (मुख्य ईंटें): These bricks are specially designed for the exterior facing of buildings, offering aesthetic appeal.


3. Fire Bricks (अग्निक ईंटें): These bricks are highly heat-resistant and used in fireplaces, furnaces, and kilns.


4. Perforated Bricks (छिद्रित ईंटें): These bricks have holes or perforations and are used for better insulation and reduced weight.


5. Paver Bricks (पेवर ईंटें): These bricks are used for creating driveways, pathways, and pavements.


6. Refractory Bricks (अग्निविरोधी ईंटें): These are designed to withstand high temperatures and are used in industries like steel and glass manufacturing.


ईंटों को निर्माण में उनके विशिष्ट उपयोग के आधार पर भी वर्गीकृत किया जा सकता है:


1. सामान्य ईंटें: इन्हें सामान्य निर्माण के उद्देश्यों के लिए प्रयुक्त किया जाता है और इनमें कोई विशेष विशेषताएँ नहीं होती हैं।


2. मुख्य ईंटें: इन ईंटों को खासकर इमारतों की बाहरी ओर के लिए डिज़ाइन किया जाता है, जो आकर्षण देते हैं।


3. अग्निक ईंटें: ये ईंटे ऊंचे तापमान के साथ अग्निवाहकों, भट्टियों, और किलों में प्रयुक्त होती हैं।


4. छिद्रित ईंटें: इनमें छिद्र या छेद होते हैं और बेहतर तापावरोधन और कम वजन के लिए प्रयुक्त होती हैं।


5. पेवर ईंटें: इन ईंटों का उपयोग ड्राइववे, पैथवे, और पथों की निर्माण के लिए किया जाता है।


6. अग्निविरोधी ईंटें: इन्हें उच्च तापमान का सामना करने के लिए डिज़ाइन किया गया है और इन्हें स्टील और कांच निर्माण जैसे उद्योगों में प्रयुक्त किया जाता है।


4: Characteristics of Bricks - ईंटों की विशेषताएँ


Now, let's delve into the characteristics of bricks:


1. Size (आकार): Bricks come in various sizes, with the standard Indian brick size being 190 mm x 90 mm x 90 mm.


2. Color (रंग): Bricks can be red, brown, grey, or other shades depending on the type of clay used.


3. Texture (बनावट): The surface texture of bricks can be smooth, rough, or even textured, adding to their aesthetic appeal.


4. Compressive Strength (प्रेसन शक्ति): This measures the ability of a brick to withstand load. The minimum compressive strength prescribed by the Indian Standard is 3.5 N/mm².


5. Water Absorption (पानी का अवशोषण): Bricks should have low water absorption to prevent damage due to moisture. The maximum water absorption allowed is 20%.


6. Efflorescence (फूसफूसाहट): Efflorescence is the white powdery deposit that can form on bricks due to soluble salts. Good quality bricks have minimal efflorescence.


7. Sound Insulation (ध्वनि अवादन): Bricks with higher density provide better sound insulation properties, important for residential buildings.


8. Thermal Insulation (ताप अवादन): Some bricks offer good thermal insulation, helping to maintain a comfortable indoor temperature.


अब, चलो ईंटों की विशेषताओं में खो जाते हैं:


1. आकार: ईंटों का विभिन्न आकार होता है, जिसमें भारतीय मानक ईंट का मानक आकार 190 मिमी x 90 मिमी x 90 मिमी होता है।


2. रंग: ईंटें लाल, भूरी, भूरी, या अन्य शैलियों पर निर्भर करके हो सकती हैं।


3. बनावट: ईंटों की सतह बनावट साफ, कड़ा, या यहां तक कि बनावट वाली हो सकती है, जो उनके आकर्षण को बढ़ावा देती है।


4. प्रेसन शक्ति: इससे ईंट की भार से सम्भालने की क्षमता की माप की जाती है। भारतीय मानक द्वारा निर्धारित की गई न्यूनतम प्रेसन शक्ति 3.5 N/mm² है।


5. पानी का अवशोषण: ईंटों का पानी का अवशोषण कम होना चाहिए ताकि नमी के कारण होने वाले क्षति से बचा जा सके। अधिकतम पानी का अवशोषण 20% है।


6. फूसफूसाहट: फूसफूसाहट वह सफेद पाउडरी ठोस होती है जो द्रावण नमकों के कारण ईंटों पर बन सकती है। अच्छी गुणवत्ता वाली ईंटों पर न्यूनतम फूसफूसाहट होती है।


7. ध्वनि अवादन: अधिक घनत्व वाली ईंटें बेहतर ध्वनि अवादन गुण प्रदान करती हैं, जो आवासीय इमारतों के लिए महत्वपूर्ण है।


8. ताप अवादन: कुछ ईंटें अच्छे ताप अवादन प्रदान करती हैं, जो आरामदायक इंडोर तापमान बनाए रखने में मदद करती हैं।


5: Conclusion - निष्कर्षण


In conclusion, understanding the classification and characteristics of bricks as per the Indian Standard is essential for any civil engineer or builder. The right choice of bricks can significantly impact the quality, strength, and durability of a structure. By considering factors like manufacturing method, use, and key characteristics, one can ensure that bricks meet the specific requirements of a construction project.


संक्षेप में, भारतीय मानक के अनुसार ईंटों के वर्गीकरण और विशेषताओं को समझना किसी भी नागरिक इंजीनियर या निर्माता के लिए महत्वपूर्ण है। ईंटों के सही चयन से किसी संरचना की गुणवत्ता, ताक़त, और टिकाऊता पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। निर्माण प्रक्रिया, उपयोग, और मुख्य विशेषताओं जैसे कारकों को ध्यान में रखकर, किसी भी निर्माण परियोजना के विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करने की सुनिश्चिति की जा सकती है।


1 view0 comments

Comments


bottom of page