top of page

Classification of Bricks with Dimensions and Tolerance Tests


1: Introduction - परिचय


Bricks, or "ईंट" as we call them in Hindi, are the fundamental building blocks of the construction industry. They have been used for centuries to create structures that stand the test of time. To ensure the quality and reliability of these bricks, it's crucial to understand their classification, dimensions, and tolerance tests. In this blog, we will explore these aspects in detail.


ईंटें, जिन्हें हम हिंदी में "ईंट" कहते हैं, निर्माण उद्योग के मौलिक निर्माण ब्लॉक हैं। इन्हें सदियों से उपयोग किया गया है ताकि वक्त के परीक्षण को सहारा दिया जा सके। इन ईंटों की गुणवत्ता और विश्वसनीयता सुनिश्चित करने के लिए, उनके वर्गीकरण, आयाम, और सहिष्णुता परीक्षण को समझना महत्वपूर्ण है। इस ब्लॉग में, हम इन पहलुओं को विस्तार से जानेंगे।


2: Classification of Bricks - ईंटों का वर्गीकरण


Bricks are classified into various categories based on their manufacturing method and purpose:


1. Handmade Bricks (हस्तनिर्मित ईंटें): These are crafted manually, resulting in a traditional, rustic appearance.


2. Machine-Made Bricks (मशीन से बनी ईंटें): Manufactured with machines, ensuring uniformity in size and shape.


3. Fire Bricks (अग्निक ईंटें): Resistant to high temperatures, used in fireplaces and furnaces.


4. Perforated Bricks (छिद्रित ईंटें): Have holes or perforations for better insulation and reduced weight.


5. Paver Bricks (पेवर ईंटें): Ideal for driveways, pathways, and pavements.


6. Facing Bricks (मुख्य ईंटें): Designed for the exterior of buildings, offering aesthetic appeal.


ईंटों को उनके निर्माण प्रक्रिया और उद्देश्य के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है:


1. हस्तनिर्मित ईंटें: इन्हें मैन्युअल रूप से तैयार किया जाता है, जिससे पारंपरिक, गांवी दिखावट होती है।


2. मशीन से बनी ईंटें: मशीनों का उपयोग करके बनाई जाती हैं, जिससे आकार और आकृति में समानता होती है।


3. अग्निक ईंटें: उच्च तापमानों के प्रति प्रतिरोधी, जिन्हें आगजनों और भट्टियों में प्रयुक्त किया जाता है।


4. छिद्रित ईंटें: इनमें छिद्र या छेद होते हैं, जो बेहतर तापावरोधन और कम वजन के लिए होते हैं।


5. पेवर ईंटें: ड्राइववे, पैथवे, और पथों के लिए उपयुक्त हैं।


6. मुख्य ईंटें: इमारतों की बाहरी ओर के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जो आकर्षण प्रदान करते हैं।


3:


Dimensions of Bricks - ईंटों के आयाम


Bricks come in various sizes, and these sizes are standardized to ensure uniformity in construction. As per the Indian Standard, the most common brick size is 190 mm x 90 mm x 90 mm. This size is widely used in construction projects across the country.


ईंटों के विभिन्न आकार होते हैं, और इन आकारों को विस्तार से मानकीकृत किया गया है ताकि निर्माण में समानता हो। भारतीय मानक के अनुसार, सबसे सामान्य ईंट का आकार 190 मिमी x 90 मिमी x 90 मिमी है। यह आकार पूरे देश में निर्माण परियोजनाओं में व्यापक रूप से प्रयुक्त होता है।


4: Tolerance Tests - सहिष्णुता परीक्षण


Tolerance tests are crucial to ensure that bricks meet the required standards. The following are some of the key tolerance tests conducted on bricks:


1. Dimensional Tolerance (आयामिक सहिष्णुता): This test checks if the actual dimensions of the brick fall within the specified limits. For the standard brick size of 190 mm x 90 mm x 90 mm, the allowable deviation is typically ±3 mm.


2. Compressive Strength Tolerance (प्रेसन शक्ति सहिष्णुता): It measures the variation in compressive strength from the specified minimum strength. The tolerance can vary depending on the class of brick.


3. Warpage Tolerance (वारपेज सहिष्णुता): Warpage refers to the deviation from the flatness of a brick's surface. It is measured in millimeters and should not exceed the specified limit.


4. Efflorescence Tolerance (फूसफूसाहट सहिष्णुता): Efflorescence is the white powdery deposit on bricks due to soluble salts. Bricks should have minimal efflorescence within specified limits.


5. Water Absorption Tolerance (पानी का अवशोषण सहिष्णुता): It measures the deviation in water absorption compared to the maximum allowable limit.


6. Density Tolerance (घनत्व सहिष्णुता): Density tolerance checks if the brick's density is within the acceptable range.


7. Surface Finish Tolerance (सतह समापन सहिष्णुता): It ensures that the surface finish of the brick meets the specified requirements.


सहिष्णुता परीक्षण सदियों से ईंटें जरूरी मानकों को पूरा करती हैं सुनिश्चित करने के लिए हैं। निम्नलिखित कुछ मुख्य सहिष्णुता परीक्षण ईंटों पर किए जाते हैं:


1. आयामिक सहिष्णुता: इस परीक्षण से यह जांचते हैं कि ईंट के वास्तविक आयाम निर्धारित सीमाओं के भीतर आते हैं या नहीं। 190 मिमी x 90 मिमी x 90 मिमी के मानक ईंट के लिए, सामान्यत: ±3 मिमी तक की अनुमति होती है।


2. प्रेसन शक्ति सहिष्णुता: यह मापता है कि प्रेसन शक्ति की वास्तविक शक्ति की न्यूनतम सीमा से कितना भिन्न है। सहिष्णुता ईंट की श्रेणी के आधार पर भिन्न हो सकती है।


3. वारपेज सहिष्णुता: वारपेज एक ईंट की सतह के समता से भिन्न होने को सूचित करता है। इसे मिमी में मापा जाता है और निर्धारित सीमा से अधिक नहीं होना चाहिए।


4. फूसफूसाहट सहिष्णुता: फूसफूसाहट वातानुकूलन साल्ट्स के कारण ईंटों पर सफेद पाउडरी ठोस की तरह होती है। ईंटों पर न्यूनतम फूसफूसाहट होनी चाहिए, निर्धारित सीमाओं के अ


ंदर।


5. पानी का अवशोषण सहिष्णुता: यह मापता है कि मान्यता प्राप्त सीमा के मुकाबले पानी के अवशोषण में कितना विचलन है।


6. घनत्व सहिष्णुता: घनत्व सहिष्णुता यह जांचता है कि ईंट का घनत्व स्वीकार्य सीमा के भीतर है या नहीं।


7. सतह समापन सहिष्णुता: इससे सुनिश्चित किया जाता है कि ईंट की सतह समापन निर्धारित आवश्यकताओं को पूरा करती है।


5: Conclusion - निष्कर्षण


In conclusion, understanding the classification of bricks and their tolerance tests is vital for the construction industry. It ensures that the bricks used in a project meet the required standards, which ultimately leads to safer and more durable structures. By adhering to these standards, civil engineers and builders can guarantee the quality of their work and the longevity of the buildings they construct.


संक्षेप में, ईंटों के वर्गीकरण और उनके सहिष्णुता परीक्षणों को समझना निर्माण उद्योग के लिए महत्वपूर्ण है। इससे सुनिश्चित होता है कि किसी परियोजना में उपयुक्त मानकों को पूरा करने वाली ईंटें प्रयुक्त होती हैं, जिससे आखिरकार सुरक्षित और अधिक टिकाऊ संरचनाएँ बनती हैं। इन मानकों का पालन करके नागरिक इंजीनियर और निर्माता अपने काम की गुणवत्ता और उनके द्वारा निर्मित इमारतों की दीर्घावधि की गारंटी दे सकते हैं।

1 view0 comments

コメント


bottom of page