समुद्र के नीचे पनडुब्बियों का पता कैसे लगाया जाता है?

Updated: Sep 25

समुद्री जल के नीचे पनडुब्बियों और टॉरपीडो जैसी वस्तुओं का पता लगाने और उनका पता लगाने के लिए उपयोग किए जाने वाले मुख्य उपकरण को 'सोनार' कहा जाता है।


यह उपकरण समुद्री युद्ध में विशेष रूप से उपयोगी है। यह 100 मीटर से लेकर 10 किलोमीटर तक की दूरी पर वस्तुओं का पता लगा सकता है। सोनार में मुख्य रूप से दो भाग होते हैं - ट्रांसमीटर और रिसीवर। ये दोनों हिस्से समुद्री जल में डूबे हुए रहते हैं। ट्रांसड्यूसर की मदद से ट्रांसमीटर उच्च आवृत्तियों (5,000 से 300,000 हर्ट्ज) की ध्वनि तरंगें पैदा करता है। इन तरंगों को अल्ट्रासोनिक तरंगें कहा जाता है और इन्हें मानव कानों से नहीं सुना जा सकता है। ट्रांसमीटर इन तरंगों को सभी दिशाओं में pulses में प्रसारित करता है। जब भी ये pulses समुद्र के पानी के अंदर किसी वस्तु से टकराती हैं, तो वे वापस परावर्तित हो जाती हैं। ये परावर्तित तरंगें तब रिसीवर द्वारा प्राप्त की जाती हैं। तरंगों को वस्तुओं तक पहुँचने और रिसीवर तक वापस आने में लगने वाले समय को मापा जाता है। इस समय का आधा जब समुद्री जल में ध्वनि की गति से गुणा किया जाता है तो वस्तु की दूरी देता है। इस उपकरण में एक डिस्प्ले डिवाइस भी होता है, जो वस्तु की दूरी और स्थिति को सटीक रूप से दिखाता है।


कुछ जलीय जंतुओं जैसे मछलियों और व्हेल द्वारा उत्पन्न ध्वनियाँ कभी-कभी इसके संचरण में बाधा डालती हैं और वस्तुओं की स्थिति के बारे में भ्रामक (misleading) हो सकती हैं। इस उपकरण से दुश्मन की पनडुब्बियों का पता लगाया जा सकता है और इस तरह उन्हें नष्ट किया जा सकता है।


इन दिनों पानी के नीचे की वस्तुओं का अध्ययन करने के लिए विभिन्न प्रकार के सोनार का उपयोग किया जा रहा है। सोनार उन स्थानों का पता लगाकर बड़े पैमाने पर मछली पकड़ने में भी मदद करते हैं जहां मछलियों के बड़े समूह मौजूद हैं।

0 views0 comments

Recent Posts

See All