हम समुद्र के तल तक कैसे पहुँच सकते हैं?

Updated: Sep 25

गहरे समुद्र में जाने के लिए 'bathyscaphe' नामक एक विशेष vessel का उपयोग किया जाता है।

1940 के दशक के अंत में ऑगस्टे पिककार्ड नाम के एक स्विस वैज्ञानिक ने इस vessel को विकसित किया था। पहला 'bathyscaphe' 1946 और 1948 के बीच बेल्जियम में बनाया गया था। हालाँकि, समुद्र की कुछ यात्राओं के बाद, 1948 में यह टूट गया। इसके बाद, दूसरा 'bathyscaphe' बनाया गया। 15 फरवरी, 1954 को अटलांटिक महासागर में 4,000 मीटर (13,000 फीट) की गहराई तक नीचे जाते ही इसने अपनी पहली यात्रा की।

'bathyscaphe' में दो मुख्य भाग होते हैं। स्टील के बने एक भाग को केबिन कहते हैं। इसमें दो लोग बैठ सकते हैं। किसी हल्की धातु से बना दूसरा भाग पानी पर तैरता है। यह गैसोलीन और दो air vessels को स्टोर करता है। 'bathyscaphe' को समुद्र की सतह पर चलने के लिए सक्षम करने के लिए, इन जहाजों को हवा से भर दिया जाता है। हालांकि, इसे समुद्र में ले जाने से पहले vessels में पानी भर दिया जाता है। और इस पानी का वजन इसे समुद्र के अंदर जाने का कारण बनता है। इन जहाजों में हवा और पानी की मात्रा को नियंत्रित करके इसे वांछित गहराई तक ले जाया जा सकता है। आजकल, ये जहाज बहुत अधिक उन्नत हो गए हैं क्योंकि बैटरी से चलने वाली मोटरों का उपयोग उन्हें उच्च स्तर की दक्षता(efficiency) प्रदान करता है। यह कम अवधि में समुद्री अनुसंधान (research) का अध्ययन करने में मदद करता है।

0 views0 comments

Recent Posts

See All