mirage क्या है?

Updated: Sep 25

यह प्रकाशीय भ्रम प्रकाश के total internal reflection के कारण होता है। गर्मी के दिनों में पृथ्वी की सतह बहुत गर्म हो जाती है। यह अपने आसपास की हवा को गर्म करता है लेकिन वातावरण की ऊपरी परत ठंडी रहती है। चूंकि गर्म हवा हमेशा ठंडी हवा की तुलना में हल्की होती है, इसलिए पृथ्वी की सतह के पास की हवा ऊपरी परतों की हवा की तुलना में हल्की हो जाती है। वैज्ञानिक दृष्टि से गर्म वायु का refractive index ठंडी वायु के refractive index से कम होता है। जैसे-जैसे हम पृथ्वी की सतह से एक निश्चित ऊँचाई तक जाते हैं, refractive index बढ़ता जाता है। ऐसी परिस्थितियों में जब पेड़-पौधों से आने वाली प्रकाश किरणें उच्च refractive index वाले माध्यम से निम्न refractive index वाले माध्यम में प्रवेश करती हैं तो वे अपने पथ से विचलित हो जाती हैं। इस घटना को refraction of light कहते हैं। जैसे-जैसे किरणें अलग-अलग refractive index की अधिक दूरी तय करती हैं, angle of refraction बढ़ता जाता है और एक अवस्था आती है जब यह 90 ° से अधिक हो जाती है। उस अवस्था में refracted light वापस उसी माध्यम में चला जाता है, जहाँ से वह प्रारंभ हुआ था। इसे प्रकाश का total internal reflection कहते हैं। इस reflection के परिणामस्वरूप, पेड़ों और पौधों की छवियां उलटी दिखाई देती हैं, जिससे यह आभास होता है की ये छवियां पानी के कारण बन रही है जिससे पानी होने का भ्रम पैदा हो जाता है । जिसे हम mirage कहते है


0 views0 comments

Recent Posts

See All