आतिशबाजी रंगीन क्यों होती है?

Updated: Sep 25

आतिशबाजी बनाने के लिए पोटेशियम नाइट्रेट, सल्फर, कोयला और कुछ अन्य धातुओं के salts के मिश्रण का उपयोग किया जाता है। आतिशबाजी में स्ट्रोंटियम, बेरियम, मैग्नीशियम और सोडियम जैसे रसायन मिलाने से रंग मिलते हैं। उन्हें पोटेशियम क्लोरेट के साथ मिलाया जाता है।


बेरियम लवण हरा रंग देता है, जबकि स्ट्रोंटियम सल्फेट हल्का आसमानी रंग देता है। स्ट्रोंटियम कार्बोनेट पीला रंग पैदा करता है जबकि स्ट्रोंटियम नाइट्रेट लाल रंग देता है, सोडियम के लवण पीला रंग प्रदान करते हैं, और तांबे के लवण नीला रंग प्रदान करते हैं। आतिशबाजी में एल्युमिनियम पाउडर चांदी की बारिश पैदा करता है। जब आतिशबाजी फटती है, तो आतिशबाजी में मौजूद ये लवण जलते हैं, विभिन्न रंगों का निर्माण करते हैं, जो एक शानदार दृश्य पेश करते हैं।


चीन पटाखों का निर्माण करने वाला पहला देश था।

0 views0 comments

Recent Posts

See All